National Unity Day 2024: राष्ट्रीय एकता दिवस क्यों मनाया जाता है, Rashtriya Ekta Diwas Kab Hai?

Rashtriya Ekta Diwas 2024: हर साल 31 अक्टूबर को मनाया जाता है। National Unity Day की शुरुआत भारत सरकार द्वारा वर्ष 2014 में भारत के लौह पुरुष – सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती मनाने के लिए की गई थी

Rashtriya ekta diwas kab manaya jata hai
DateNational Unity Day हर साल 31 October को मनाया जाता है।
पहली बारसरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती 31 अक्टूबर को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाई जाती है। इसकी शुरुआत भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2014 में की थी।
विवरणराष्ट्रीय एकता किसी भी देश में नागरिकों द्वारा एकता और अखंडता बनाए रखने के साथ-साथ एक मजबूत और समृद्ध राष्ट्र के निर्माण के लिए एकजुटता है।

राष्ट्रीय एकता के लिए यह आवश्यक है कि एक सही भाषा नीति बनाई जाए, सभी भाषाओं को प्रोत्साहित किया जाए। न्याय व्यवस्था में निष्पक्षता और ईमानदारी होनी चाहिए। सबके लिए समान कानून होने चाहिए। जाति और धर्म के नाम पर अलग-अलग कानूनों को समाप्त किया जाना चाहिए।

Rashtriya Ekta Diwas क्यों मनाया जाता है?

सरदार वल्लभ भाई पटेल ने भारत के स्वतंत्रता आंदोलन और लगभग 562 रियासतों के साथ भारत के एकीकरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वह स्वतंत्र भारत के पहले उप प्रधान मंत्री और गृह मंत्री थे। राष्ट्रीय एकता दिवस पटेल के राष्ट्र को एकजुट करने के प्रयासों को स्वीकार करने के लिए मनाया जाता है।

आजादी के बाद भारत 565 रियासतों में बंटा हुआ था। ये रियासतें स्वतंत्र शासन में विश्वास करती थीं, जो एक मजबूत भारत के निर्माण में सबसे बड़ी बाधा थी। हैदराबाद, जूनागढ़, भोपाल और कश्मीर को छोड़कर, 562 रियासतों ने स्वेच्छा से भारतीय परिसंघ में शामिल होने के लिए अपनी सहमति दी।

National Unity Day की शुरुआत कब हुई थी?

भारत के राजनीतिक एकीकरण की दिशा में सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान को कायम रखने के लिए, उनकी जयंती 31 अक्टूबर को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाई जाती है। इसकी शुरुआत भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2014 में की थी।

राष्ट्रीय एकता क्या है?

राष्ट्रीय एकता किसी भी देश में नागरिकों द्वारा एकता और अखंडता बनाए रखने के साथ-साथ एक मजबूत और समृद्ध राष्ट्र के निर्माण के लिए एकजुटता / एकता है। एकीकरण में मनुष्य एक दूसरे की जाति, धर्म आदि को नहीं देखता है।

एकता का अर्थ है दो या दो से अधिक चीजों, संख्याओं या दो अलग-अलग लोगों समामेलन, अधिक व्यक्तियों, पार्टियों आदि के बीच एकता या एकमत स्थापित करना।

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी

पटेल की 143वीं वर्षगांठ पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का उद्घाटन किया. यह दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा है जिसकी ऊंचाई 182 मीटर (597 फीट) है। यह केवडिया कॉलोनी में नर्मदा नदी पर सरदार सरोवर बांध के सामने स्थित है।

भारत का एकीकरण कैसे हुआ?

15 अगस्त 1945 को जब जापान ने आत्मसमर्पण किया तो माउंटबेटन सेना के साथ बर्मा के जंगलों में थे। इस वर्षगांठ को यादगार बनाने के लिए माउंटबेटन ने भारत की आजादी के लिए 15 अगस्त 1947 का समय तय किया था। तब सरदार पटेल ने लगभग 562 रियासतों को एकजुट किया और भारत को एकजुट किया और भारत को उसका वर्तमान स्वरूप दिया।

वर्ष 2019 में पीएम मोदी ने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी में राष्ट्रीय एकता दिवस की शपथ ली:

Rashtriya ekta diwas shapath in hindi

“मैं पूरी तरह से प्रतिज्ञा करता हूं कि मैं राष्ट्र की एकता, अखंडता और सुरक्षा को बनाए रखने के लिए खुद को समर्पित करता हूं. मैं यह प्रतिज्ञा लेता हूं कि मैं इसे अपने देश की एकता की भावना से लेता हूं, जो सरदार वल्लभ भाई पटेल की दूरदर्शिता और कार्यों से संभव हुआ है। मैं अपने देश की आंतरिक सुरक्षा सुनिश्चित करने का यह संकल्प लेता हूं। मैं इसके लिए अपना योगदान देने का भी संकल्प लेता हूं। विश्व शांति दिवस की शुरुआत कब हुई थी?

राष्ट्रीय एकता दिवस क्यों मनाया जाता है?

राष्ट्रीय एकता दिवस “हमारे देश की एकता और अखंडता के लिए वास्तविक और अंतर्निहित ताकत के साथ संभावित खतरों से देश को बचाने के लिए हर एक नागरिक को एकजुट रहना होगा.

राष्ट्रीय एकता में क्या खतरे हैं?

जिस राष्ट्र में धर्म और जाति का इतना अधिक भेदभाव है, वहां राष्ट्रीय एकता की भावना को विकसित करना कठिन है। सांप्रदायिकता राष्ट्रीय एकता के मार्ग में एक बड़ी बाधा है।

राष्ट्रीय एकता दिवस 19 नवंबर को क्यों मनाया जाता है?

इंदिरा गांधी की जयंती के उपलक्ष्य में 19 नवंबर को राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जाता है। उन्हें देश की ‘आयरन लेडी’ भी कहा जाता था।

राष्ट्रीय एकता का क्या अर्थ है?

राष्ट्रीय एकता का अर्थ है राष्ट्र के प्रति प्रेम की भावना, जिसमें जाति, पंथ, धर्म, भाषा, संस्कृति आदि के भेद को भूलकर स्वयं को एक मानना चाहिए।